क्या भारत के लिए ‘पेशेंट नंबर 31’ साबित होंगी बॉलीवुड गायिका कनिका कपूर?

बॉलीवुड की मशहूर गायिका कनिका कपूर क्या भारत के लिए ‘पेशेंट नंबर 31’ साबित होंगी? सवाल इसलिए क्योंकि उन्होंने जो किया है वो किसी भी स्थिति में माफी के लायक नहीं है. उन्होंने न केवल अपनी जान खतरे में डाली, बल्कि अपने परिवार को भी खतरे में डाल दिया. यही नहीं उन्होंने तो पूरे शहर को या यूं कहें कि देश भर को खतरे में डाल दिया है.

जानिए क्या है पेशेंट नंबर 31 की कहानी?

दक्षिण कोरिया कोरोना वायरस के खतरे से बचा हुआ था. कोई घबराने जैसी बात नहीं थी. जो मामले सामने आ रहे थे, स्थानीय स्तर पर उनसे निपटा जा रहा था. 30 मामले सामने आ चुके थे और फिर जब पेशेंट नंबर 31 से सामना हुआ तो सभी के होश उड़ गए. क्योंकि उसके बाद कोरोना वायरस के मरीजों की लाइनें लग गईं.

ये सब हुआ इसी पेशेंट नंबर 31 के कारण. ये महिला सियोल की सड़कों पर उस वक्त तक आराम से घूमती रही जब तक कि इसकी गाड़ी का एक्सीडेंट नहीं हो गया. अस्पताल में जांच के दौरान पता चला कि इसको कोरोना वायरस है. लेकिन तब तक देर हो चुकी थी. महिला चर्च गई थी, बाहर खाना खाया था और तमाम लोगों से भी मिली थी.

अलजजीरा की खबर के मुताबिक इस महिला ने 4800 लोगों में वायरस बांट दिया. 29 लोगों की मौत हो गई और बाकी की स्थिति भी अच्छी नहीं कही जा सकती है. दक्षिण कोरिया की सड़कों पर ये महिला वायरस लिए घूमती रही. जहां भी गई वहां मौत का ये वायरस छोड़ आई. और अब दक्षिण कोरिया इस महिला के कारण बहुत परेशान है.

कनिका कपूर ने भी यही किया देश के साथ

आप लोग लगातार इस बारे में देख और पढ़ रहे होंगे लेकिन लखनऊ के लोगों में जो डर है वो मैं महसूस कर पा रहा हूं क्योंकि मैं भी इन दिनों यहीं रह रहा हूं. कई इलाके लॉकडाउन कर दिए गए हैं, ब्यूटी पार्लर से लेकर नाई की दुकानें तक बंद करा दी गई हैं. होटल और रेस्टोरेंट से लेकर ढाबे तक बंद करा दिए गए हैं. यही नहीं बार और पबों से लेकर कैफे और लाउंज तक पर ताला लटक गया है.

जो लखनऊ अपनी रवानगी के लिए जाना जाता था, जो लखनऊ अपने खास अंदाज के लिए जाना जाता था आज दहशत में है. और इसकी वजह हैं बॉलीवुड की मशहूर गायिका कनिका कपूर जो लखनऊ की ही रहने वाली हैं. शायद आज लखनऊ के लोग इस बात से खुश तो नहीं होंगे लेकिन कनिका ने जो किया है उसके बाद से वो लोगों के गुस्से का कारण बनी हुई हैं.

कनिका कपूर ने आखिर किया क्या है?

कनिका कपूर लंदन से लखनऊ पहुंच गईं. वो पार्टी में शामिल हुईं. कई लोगों से मिलीं. उनके पिता का कहना है कि वो करीब 400 से अधिक लोगों से मिलीं. जिन हाई प्रोफाइल पार्टीज में वो शामिल हुईं उनमें राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और उनके बेटे दुष्यंत भी शामिल थे. बताया जा रहा है कि कई बड़े नेता और अधिकारी इन पार्टियों में शामिल थे.

दुष्यंत तो संसद भी गए और राष्ट्रपति भवन भी पहुंचे. बाकी अधिकारी भी यूपी भर में फैल गए. नेता तो अपने क्षेत्र में पहुंचे ही होंगे. कनिका कोरोना वायरस से पीड़ित हैं क्या ये बात उन्हें पता नहीं थी? क्या उन्हें बुखार महसूस नहीं हुआ था? खांसी और जुकाम महसूस नहीं हुआ था? अगर ऐसा था तो क्या उन्होंने किसी डॉक्टर से बात क्यों नहीं की थी?

कनिका हाई सिक्योरिटी प्रोटोकॉल्स तोड़ कर बिना जांच के एयरपोर्ट से निकल गईं? उनकी जांच क्यों नहीं की गई ये भी एक बड़ा सवाल है. कनिका सैकडों लोगों से मिलीं, हाथ मिलाया होगा, गले मिली होंगी, साथ में खाना खाया होगा. क्या गांरंटी है कि उनसे ये वायरस किसी और को नहीं फैला. अब जो लोग उनसे मिले थे वो भी अपनी पहचान छुपाना चाहेंगे, क्या ये देश के लिए ठीक होगा.

लखनऊ भर में फैल गई है दहशत

यूपी सरकार से मिली जानकारी के मुताबिक कनिका कपूर ने तीन कार्यक्रम भी किए. इन कार्यक्रमों में जो लोग शामिल हुए थे उनकी पहचान की जा रही है. कनिका कपूर के खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज किया गया है लेकिन ऐसे बहुत सारे लोग खुले घूम रहे हैं जिन्होंने कनिका से मुलाकात की थी.

इन पार्टियों में यूपी के स्वास्थ्य मंत्री मौजूद थे, कई और राजनीतिक हस्तियां भी इन पार्टियों में शामिल थीं, कई अधिकारी भी इन पार्टियों का हिस्सा थे. इस खुलासे के बाद लखनऊ में ही नहीं यूपी भर में दहशत फैल गई है. देश भर में दहशत फैल गई है. और इस दहशत का गुनाहगार अगर कोई है तो केवल और केवल कनिका कपूर हैं.