कोरोना वायरस की ये नई सच्चाईयां आपको पता चलीं क्या? तुरंत पढ़िए ये खास खबर

Photo by Rathaphon Nanthapreecha on Pexels.com

कोरोना वायरस को लेकर पूरी दुनिया में चिंता का माहौल है. लोग डरे हुए हैं. 135 करोड़ की आबादी वाले भारत में भी कोरोना को लेकर चिंताएं देखी जा रही है. सरकार चाहे लाख सावधानी बरत रही है लेकिन फिर भी मीडिया के जरिए जो कहानियां जनता तक पहुंच रही हैं वो उन्हें डरा रही हैं.

मास्क और सेनेटाइजर बाजार से गायब

मास्क और सेनेटाइजर को लेकर पहली बार इतनी बैचेनी देखी जा रही है. बाजार में या तो ये दोनों चीजें मिल नहीं रही हैं, और यदि मिल रही हैं तो इनके दाम कई गुना बढ़ा दिए गए हैं. हालांकि अभी भी कुछ लोग ऐसे हैं जो दोनों चीजों को उचित दामों पर बेच रहे हैं. हालांकि ऐसा नहीं है कि जनता इन्हीं को जमा कर रही है.

कई और चीजों की भी मांग बढ़ी

बाजार में कई और चीजों की मांग भी बढ़ गई है. लोग डिटॉल (लिक्विड, साबुन और हैंडवॉश) भी जमकर खरीद रहे हैं. हैंडवॉश को लोग खास तौर पर खरीद रहे हैं और घरों में जमा भी कर रहे हैं. साथ ही जेनेरिक दवाओं की बिक्री में भी अचानक से काफी उछाल आ गया है. माना जा रहा है कि लोग इन्हें भी जमा कर रहे हैं.

होली से परहेज का माहौल

भारत में होली का त्यौहार है लेकिन लोग रंग खरीदने से परहेज कर रहे हैं. ऐसा माना जा रहा है कि चाइना से आने वाले रंग भी कोरोना इन्फेक्टेड हो सकते हैं लिहाजा इन्हें ना खरीदा जाए. ऐसी स्थिति में इस बार की होली काफी हद तक ऑर्गेनिक होने वाली है.

सोशल मीडिया के जरिए फैल रही हैं अफवाहें

अफवाहों के फैलने में सोशल मीडिया का भी बड़ा रोल है. व्हाट्सएप से लेकर फेसबुक तक पर कोरोना वायरस को लेकर तमाम तरह के मैसेज सर्कुलेट किए जा रहे हैं. इन मैसेज की कोई प्रमाणिकता नहीं है. कपूर लौंग से लेकर शराब तक के मैसेज लोग एक दूसरे को भेज रहे हैं लेकिन इनमें से अधिकतर फेक ही हैं.

फिलहाल तो बचाव ही इलाज है

कोरोना वायरस का इलाज अभी तक तलाश नहीं किया जा सका है. जब तक इसका इलाज तलाश नहीं कर लिया जाता तब तक यही कहा जा सकता है कि बचाव ही इलाज है. लिहाजा उसी गाइडलाइन को फॉलो करें जो भारत सरकार की तरफ से जारी की गई है. भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें, मास्क का इस्तेमाल करें और हाथों को बार बार धोएं.