93,900 का फोन ऑनलाइन मंगवाया था लेकिन डिब्बा खोलते ही उड़ गए होश

fake iphone
Image Courtesy: IBT, India

सोचिए क्या हो अगर आप एक लाख रुपये का फोन ऑनलाइन मंगवाएं और वो नकली निकल जाए? बैंगलौर के एक शख्स के साथ यही हुआ है जिसने करीब एक लाख रुपये का आईफोन फ्लिपकार्ट से ऑर्डर किया था लेकिन जब डिब्बा खोला तो होश उड़ गए।

बेंगलुरु में रहने वाले राजनीकांत कुशवाहा ने फ्लिपकार्ट से एपल का लेटेस्ट स्मार्टफोन आईफोन 11 प्रो ऑर्डर किया था। फोन जब उनके पास पहुंचा तो बॉक्स खोलते ही उनके होश उड़ गए क्योंकि बॉक्स में नकली फोन था जिसपर आईफोन 11 प्रो के ट्रिपल रियर कैमरे का स्टीकर चिपका था।

दरअसल रजनीकांत कुशवाहा ने फ्लिपकार्ट से 93,900 रुपए कीमत का आईफोन 11 प्रो बुक किया था। उन्हें अपने नए फोन का बेसब्री से इंतजार था। उन तक जब फोन पहुंचा तो उन्होंने खुशी-खुशी डिब्बा खोला लेकिन अंदर जो फोन निकला वो आईफोन नहीं था।

इस नकली फोन पर ट्रिपल कैमरे का स्टीकर चिपका था। मामले को समझने के बाद रजनीकांत ने फ्लिपकार्ट से इसकी शिकायत की। कंपनी ने उन्हें आश्वासन दिया है कि वे जल्द ही इसे रिप्लेस कर देंगे।

ऐसा पहली बार नहीं हुआ है जब इस तरह के फ्रॉड केस सामने आए हैं। दरअसल फ्लिपकार्ट समेत अन्य ईकॉमर्स वेबसाइटों पर जो भी सामान बेचा जाता है वो या तो बनाने वाली कंपनी सीधे बेचती है या फिर रजिस्टर्ड लोग बेचते हैं। जब आप लोग फ्लिपकार्ट पर कुछ ऑर्डर करते हैं तो सामान फ्लिपकार्ट आप तक नहीं भेजता बल्कि वे लोग या कंपनियां भेजते हैं जो रजिस्टर्ड हैं। फ्लिपकार्ट तो केवल एक कड़ी है ग्राहक और विक्रेता के बीच की।

हालांकि फ्रॉड के ऐसे मामलों से फ्लिपकार्ट की भी इमेज खराब होती है और यही कारण है कि ऐसे मामलों में फ्लिपकार्ट बीच में पड़कर ग्राहक को सही सामान दिलाती है, यही नहीं ऐसे विक्रेताओं को भी अपने प्लेटफॉर्म से बाहर कर देती है।

तो अगली बार आप लोग जब कोई सामान ऑर्डर करें तो जरूर चेक कर लें कि सामान आपको कौन बेच रहा है, उसके रिव्यू कैसे हैं और अगर रिव्यू अच्छे नहीं हैं तो रिस्क बहुत बढ़ जाता है। इसके अलावा आपको कैश ऑन डिलीवरी का ऑप्शन चुनना चाहिए।