कौन सा मास्क आपको कोरोना वायरस से बचा सकता है? जानने के लिए पढ़ें ये खबर

कोराना वायरस के बारे में तो आप सभी ने सुना होगा. हर अखबार और हर टीवी चैनल में आपको इस बारे में बताया जा रहा है. इस वायरस के कारण हो रही मौतों का आंकडा बढ़ता जा रहा है. चीन के वुहान शहर से निकल कर ये वायरस दुनिया के कई देशों में फैल गया है. भारत में भी इस वायरस ने दस्तक दे दी है. हालांकि भारत में पॉजिटिव केस की संख्या ना के बराबर है और सरकार ऐसी कोशिशें कर रही है जिससे ये वायरस फैल ना पाए.

इस सबके बीच हम पहुंचे लखनऊ के अलीगंज इलाके में जहां गियरकार्ट नाम की कंपनी मास्क बनाने का काम करती है. कंपनी के डारेक्टर बिलाल अरशद ने हमें बताया कि अमूमन मास्क तीन तरह के उपलब्ध है. एन-94, एन-95 और पीएम 2.5 लेकिन इसमें से सबसे अच्छा मास्क है एन 95.

उन्होंने बताया कि जब चीन में कोरोना वायरस की शुरूआत हुई तब यहां से मास्क वहां भेजे जा रहे थे लेकिन अब एक्सपोर्ट और इंपोर्ट रोक दिया गया है. चीन से मास्क बनाने के लिए जो सामान आता था ना तो वो आ पा रहा है और ना ही फिलहाल यहां बने मास्क चीन जा पा रहे हैं.

बिलाल ने कहा कि मास्क इंडस्ट्री में 500 से 600 प्रतिशत का उछाल देखा जा रहा है. खुद उनके पास भी कई बड़े ऑर्डर हैं लेकिन सामान का उपलब्धता नहीं है लिहाजा मास्क बन नहीं पा रहे हैं. जो स्टॉक रखा हुआ था वही बेचा जा रहा है. भारत के हैदराबाद और बैंगलुरू शहरों से मास्क की डिमांड सबसे अधिक है.

उन्होंने AMN News से खास बातचीत में कहा कि पूरी दुनिया में मास्क की मांग तेजी से बढ़ी है लेकिन जितनी मांग है, उतना उत्पादन नहीं हो पा रहा है. साथ ही अब मास्क को विदेश भेजना बंद कर दिया गया है. अब देश में ही इन मास्क को भेजा जा रहा है. इसके लिए उनकी टीम काफी मेहनत से काम कर रही है.

बिलाल ने कहा कि कुछ लोग सेनेटाइजर और मास्क कई गुना दामों पर बेच रहे हैं जो गलत है. उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों को मास्क उचित दामों पर ही बेचना चाहिए ताकि जनता के लोगों तक मास्क और सेनेटाइजर पहुंचे. उन्होंने इस तरह स्टॉक किए जाने को बेहद गलत करार दिया.

बिलाल और उनकी टीम लोगों तक मास्क पहुंचाने के लिए, देश के लिए कड़ी मेहनत कर रही है वहीं कई लोग इन मास्क के जरिए मोटा मुनाफा कमाने में जुटे हैं. कोरोना वायरस की दहशत दुनिया के साथ साथ भारत में भी बढ़ रही है लेकिन एक बात तो पूरी तरह साफ है, बचाव ही सबसे बेहतर उपचार है.